હું ગીતકાર અને કવિયત્રી છું. મારું નામ દર્શિતા બાબુભાઇ શાહ છે . મેં કવિતા ૧૯૮૯ થી લખવાની ચાલુ કરી. ૧૯૮૯ માં મારી માતાનું અવસાન થયું . એકાંત લાગવા માંડયું. હું મારી માતાની વધારે નજીક હતી તેથી ઘણું દુઃખ થયું હતું . ત્યારે એક પંક્તિ લખી હતી. काटे नही कटता एक पल यहां । कैसे कटेगी एक उम्र भला ॥ “સખી” અને “ઐશ્વર્યા ” ના ઉપનામ થી લખું છું . ૨૫-જૂન- ૧૯૮૯. ત્યાર પછી લખવાનું ચાલું રહ્યું. પહેલા હિન્દી માં લખતી હતી. ૧૯૯૫ માં મેં નયનભાઇ પંચોલી સાથે સંગીત શીખવાનું ચાલું કર્યું.તેથી ગુજરાતીમાં લખવા માડયું. કવિતા ઓ અમદાવાદ ના લોકલ છાપામાં છપાવા માંડી. ૫૦૦ કવિતા લખી લીધા બાદ વિચાર્યુ કે તેની પુસ્તિકા છપાવી તેથી બે સંગ્રહ પ્રકાશિત કર્યા. અસ્તિત્વ અને પરસ્પર નામના બે કાવ્ય સંગ્રહ ગુજરાતી અને આરઝૂ અને કશિશ નામના બે કાવ્ય સંગ્રહ હિન્દી માં પ્રકાશિત કર્યા. અત્યાર સુધી લગભગ ૨૫૦૦ કવિતા લખી છે. જેની નોંધ ઇન્ડિયા બુક ઓફ રેકોર્ડ માં લેવામાં આવી છે . અમદાવાદ ના ગુજરાત સમાચાર, સંદેશ, દિવ્ય ભાસ્કર માં કવિતા ઓ છપાતી રહે છે . તથા ફીલીંગ્સ મલ્ટીમીડીયા મેગેઝીન, સખી, જય હિન્દ માં પણ કવિતાઓ પ્રકાશિત થતી રહે

Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
9 மணி முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

उम्रभर चाहूँगा ये कसमें खाने वालो के l
वादों से बातेँ करना अच्छा लगता है ll

छत पर सोते समय इश्क की यादों में l
तारों से बातेँ करना अच्छा लगता है ll

प्रियतम का नाम लिखी हुई मेहंदी वाले l
हाथों से बातेँ करना अच्छा लगता है ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
1 நாள் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

बारिस में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है l
यादो में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है ll

मनचाहे और मनभावन के साथ भीगी भीगी चांदनी l
रातों में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
2 நாள் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

बादल बरस रहे हैं l
आँखें छलक रही है ll

जाम के नशे में देख l
बातेँ छलक रही है ll

दुल्हन का घूंघट खुला l
राते छलक रही है ll

पुरानी तस्वीरो से l
यादें छलक रही है ll

मिलन की रातों में l
साँसे छलक रही है ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
3 நாள் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

जो ख़यालों मे था वो आज हक़ीक़त बन गया l
जो सुबह शाम मे था वो आज इबादत बन गया ll

दर्शिता

Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
4 நாள் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

मेक आप करना जरूरी है l
खुशी से सजना जरूरी है ll

दिल के पिटारो मे मीठी l
यादो को भरना जरूरी है ll

बेहतरीन मुस्कतबिल को l
खूबसूरत सपना जरूरी है ll

मुकमल जिंदगी जीने के लिए l
कायनात मे अपना जरूरी है ll

हमसफर का हमसाया बनकर l
साथ साथ चलना जरूरी है ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
5 நாள் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

होले होले दिल तेरा हो गया l
प्यारे मीठे सपनों मे खो गया ll

मीठी मीठी बातों मे उलझाकर l
खूबसूरत ख्वाबो को बो गया ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
6 நாள் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

मैं और मेरी डायरी तेरी यादों में गुमसुम है l
बहके बहके हुए तेरे वादों से सुनमून है ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
1 வாரம் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

मिलों की दूरियां जुदा नहीं कर पाई है l
दिल को इस लिए आज भी ये राहत तो है ll

दर्शिता

Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
1 வாரம் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

मेरी नीदों मे चंद चाहत भरे ख्वाब है l
तेरी मुस्कराहट देख खिला माहताब है ll

दर्शिता

Darshita Babubhai Shah மாட்ருபர்த்தி சரிபார்ப்பு புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
1 வாரம் முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

हर अदा निराली, हर बात पे मीठी सी मुस्कान दिया करना l
शर्मो हया के पर्दे मे भी वो मेरा सबके सामने चाल पुछती है।

बेपनाह बेइंतिहा मुहब्बत मे नादाँ दिल से मजबूर होकर l
इशारों ही इशारों मे भी वो मेरा सबके सामने हाल पुछती है।

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க