હું ગીતકાર અને કવિયત્રી છું. મારું નામ દર્શિતા બાબુભાઇ શાહ છે . મેં કવિતા ૧૯૮૯ થી લખવાની ચાલુ કરી. ૧૯૮૯ માં મારી માતાનું અવસાન થયું . એકાંત લાગવા માંડયું. હું મારી માતાની વધારે નજીક હતી તેથી ઘણું દુઃખ થયું હતું . ત્યારે એક પંક્તિ લખી હતી. काटे नही कटता एक पल यहां । कैसे कटेगी एक उम्र भला ॥ “સખી” અને “ઐશ્વર્યા ” ના ઉપનામ થી લખું છું . ૨૫-જૂન- ૧૯૮૯. ત્યાર પછી લખવાનું ચાલું રહ્યું. પહેલા હિન્દી માં લખતી હતી. ૧૯૯૫ માં મેં નયનભાઇ પંચોલી સાથે સંગીત શીખવાનું ચાલું કર્યું.તેથી ગુજરાતીમાં લખવા માડયું. કવિતા ઓ અમદાવાદ ના લોકલ છાપામાં છપાવા માંડી. ૫૦૦ કવિતા લખી લીધા બાદ વિચાર્યુ કે તેની પુસ્તિકા છપાવી તેથી બે સંગ્રહ પ્રકાશિત કર્યા. અસ્તિત્વ અને પરસ્પર નામના બે કાવ્ય સંગ્રહ ગુજરાતી અને આરઝૂ અને કશિશ નામના બે કાવ્ય સંગ્રહ હિન્દી માં પ્રકાશિત કર્યા. અત્યાર સુધી લગભગ ૨૫૦૦ કવિતા લખી છે. જેની નોંધ ઇન્ડિયા બુક ઓફ રેકોર્ડ માં લેવામાં આવી છે . અમદાવાદ ના ગુજરાત સમાચાર, સંદેશ, દિવ્ય ભાસ્કર માં કવિતા ઓ છપાતી રહે છે . તથા ફીલીંગ્સ મલ્ટીમીડીયા મેગેઝીન, સખી, જય હિન્દ માં પણ કવિતાઓ પ્રકાશિત થતી રહે

Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
5 மணி முன்பு

मैं और मेरे अह्सास

दर्द को सहलाने से क्या हासिल होगा?
दिल को जला ने से क्या हासिल होगा ?

अब मिलना हमारा मंजूर नहीं खुदा को l
दूर से देखने आपको क्या सुकून होगा?

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
1 நாள் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

गर ख्यालो पे रोक लगा दोगे l
तो जुबान अपनेआप मौन रहेगी ll

दर्शिता

Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
2 நாள் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

याद ने तेरी जीने का हौसला दे दिया l
प्यार ने तेरे जीने का हौसला दे दिया ll

रफ्ता रफ्ता यू बढ़ गई हमारी हिम्मत l
तेरी नज़रों से पीने का हौसला दे दिया l

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
3 நாள் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

दिल एक खिलौना बन गया है l
मनचलो का हाथा बन गया है ll

दर्शिता

Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
4 நாள் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

दिल की महफिल में दिल बहलाने आये हैं l
नज़रों से जाम पीकर झूम जाने आये हैं ll

अब तेरी तस्वीर से दिल ना बहलेगा l
तुझे जी भर के देखने दिवाने आये हैं ll

कशिश इस तरफ बढ़ रही है दीदार की l
प्यास जन्मोजन्म की आज बुझाने आये हैं ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
5 நாள் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

बाकी जो बची है l
साथ तेरे गुजारेंगे ll

हरपल हर लम्हा l
युही चाहते रहेगे ll

दर्शिता

Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
6 நாள் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

जो है वो बस आज ही है l
कल बदलने वाला नहीं है l
आने वाला बसमे नहीं है ll

दर्शिता

Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
1 வாரம் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

ज़मानेभर मे रुस्वाई का दौर l
मेरी पाक मोहब्बत के सिले है ll

प्रेमी युगलों के मिलन आतुर हैं l
प्यार के दुश्मनों के काफिले हैं ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க
Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
1 வாரம் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

खामोशी की अलग ही भाषा होती है l
उसे सुनने के लिए बेज़ुबान हो जाओ ll

दर्शिता

Darshita Babubhai Shah verified புதுப்பிப்பை வெளியிட்டது हिंदी Poem
1 வாரம் முன்பு

मे और मेरे अह्सास

दुनिया छोड़ के तुम गये l
रिसता तोड़ के तुम गये ll

चाहते तुम तो साथ चलते l
रास्ते मोड़ के तुम गये ll

अहसान फरामोश से दूर l
कब्र में दोड़ के तुम गये ll

दर्शिता

மேலும் வாசிக்க